जय काली कलकत्ते वाली

अप्रैल 15, 2007 at 5:14 अपराह्न (विवक्षा)

अभी कल ही लौटा हूं कलकत्ता या यूं कहूं कोलकाता से. कलकत्ता जाने का उद्देश्य था मोबाइल बैंकिंग की एक कार्यशाला में भाग लेना/ कोलकाता शहर है सुभाष बाबू, देशबन्धु चितरन्जन दास, कवीन्द्र रवीन्द्र और बाघा जतीन का/

ये ही शहर था जिसे अन्ग्रेज़ी हुकूमत की राजधानी बनने का सौभग्य या दुर्भाग्य सबसे पहले मिला/ उस दौर में बंगाल का आर्थिक शोषण सबसे ज़्यादा हुआ और दुनिया के सबसे सम्पन्न और उर्वर इलाकों में से एक इलाका दारिद्रय के दलदल में फ़ंस गया/ आज़ादी के बाद कोलकाता ने डॊ. विधानचन्द्र राय के विधान से लेकर बुद्धदेव की बुद्धि तक सबको परखा और अनुभव किया/ सन १९४७ से १९७७ तक कांग्रेस का शासन रहा पश्चिम बंगाल में और फ़िर १९७७ में उदय हुआ भद्रलोक के ज्योति बाबू का जिन्होने भारत के सर्वाधिक काल तक मुख्यमन्त्री बने रहने का रिकार्ड कायम किया/ यह शायद हिन्दुस्तान ही नहीं तमाम दुनिया में अपने आप में रिकार्ड है/

वामपन्थी शासन शुरू हुआ था समाज में बढ़ते हुये नक्सल प्रभाव और उसके साथ जुड़ी हुई सामाजिक भावनाओं के राजनीतिक घोषणा के रूप में/ नक्सल आन्दोलन १९६७ के आस-पास नक्सलबाड़ी नामक स्थान से शुरू हुआ और चूंकि उन्होनें जिन मुद्दों को उठाया और समाधान की मांग की वे न सिर्फ़ सामयिक और क्रिटिकल थे बल्कि जन-मानस को उद्वेलित करने और अपने लिये तमाम वर्गों में समर्थन हासिल करने में भी सफ़ल रहे/ राजनीतिक व्यवस्था के प्रति अपना आक्रोश और विरोध जताने के लिये इस वर्ग ने अपना एक अलग रास्ता अख्तियार किया/ और बहुधा ऐसा हुआ कि क्रियान्वयन के तरीकों पर तो विभिन्न समुदाय और वर्गों से विरोध के और असहमति के स्वर उभरते रहे परन्तु उन मुद्दों और वाज़िब चिन्ताओं से कोई असहमति नहीं जता सका/ बुद्धिजीवियों का एक बड़ा वर्ग भी उन मुद्दों और कुछ हद तक क्रियान्वयन के तरीकों का हिमायती था/ बहरहाल वामपन्थी शासन आया और इसे हिन्दुस्तान में सर्वहारा के विजय की दिशा में मील का पत्थर माना गया/

इस बारें में निःसन्देह मानना होगा कि भूमि सुधारों की दिशा में बंगाल की सरकार ने सही दिशा में काम किया और उसे एक परिणिति तक पहुंचाया/ इसके अतिरिक्त और भी कुछ बड़े कार्य सामाजिक समानता बढ़ाने और आर्थिक विषमता हटाने के लिये हुए/ लेकिन इस दिशा में चलते हुए ज्योति बसु की सरकार ने बंगाल को वामपंथ की प्रयोगशाला बना दिया/ औद्योगिक विकास को इस राज्य में बुर्जुआ प्रतीक माना गया और हाथ रिक्शा चलाना सर्वहारा के हितैषी होने का/ लुब्बोलुआब ये कि राज्य का औद्योगिक विकास ठप्प पड़ गया और उस पर कोढ़ में खाज ये कि निरन्तर बढ़्ते हुए पड़ोसी देश से आव्रजन को रोकने के लिये सरकार ने कुछ कदम उठाए नही जिसके चलते पहले से ही सीमित अवसरों और संसाधनों पर अत्यधिक अतिरिक्त भार पड़ने लगा/

तो खैर मुद्दे पर वापिस आते है/ मैं सोचता हूं कि कोलकाता सिर्फ़ मां काली के कालीघाट का या रामकृष्ण परमहन्स के दक्षिणेश्वर का शहर नहीं बल्कि ये शहर है रेंगते हुये ट्रैफ़िक और फ़ुटपाथों पर घिसटती हुई ज़िन्दगियों का भी/ इतने बड़े शहर में जहां भी आप गुज़रें आपको फ़ुटपाथ पर बने हुए दड़बे मिल जायेंगे/ यदि बिना भवुक हुए सोचें तो भी ये शर्म की बात है कि वामपन्थ का नारा देने वाली और लेनिन-मार्क्स का नाम जपने वाली सरकारें अपने नागरिकों को एक साफ़-सुथरा शहर भी नहीं दे सकीं, हर आदमी के लिये रोटी-कपड़ा और मकान तो दूर की कौड़ी है/

दुष्यन्त शायद ऐसे स्थिति के लिये काफ़ी पहले फ़रमा गये –

“कहां तो तय था चिरागां हर एक घर् के लिये,कहां चराग़ मयस्सर नहीं शहर के लिये”

खैर राज्य चर्चा के उपरान्त यात्रा वृतान्त ये है कि हम गये कालीघाट- मां काली का स्थान जिसके नाम पर कोलकाता का नामकरण हुआ/ इस मन्दिर पर पहुंचते ही पण्डा वृन्द हम पर झपट पड़ा मगर इस प्रकार की घटनाओं से दो-चार हो चुके होने के कारण हमको पता था कि इस झपट्टा झुण्ड से कैसे निपटना है.

कालीघाट काफ़ी प्रसिद्ध और प्राचीन मन्दिर है और कोलकाता आने वाला प्रायः प्रत्येक धार्मिक श्रद्धालु यहां आता है/ भारत में कुछ गिने-चुने मुख्यधारा के मन्दिर बचे है जहां पशुबलि की अन्धपरम्परा और मूढ़ मान्यता अभी भी जारी है/ कालीघाट के देवस्थान में भी ऐसा ही है/ मन्दिर के ठीक सामने पशुबलि के खंभ अवस्थित हैं और वहीं बलि दी जाती है/ बलि की यह परम्परा अभी तक कैसे चल रही है इसके अपने कारण हैं जिन पर विस्तार से चर्चा फ़िर कभी/

तो मन्दिर में पहुंचने के पहले जूते उतारने के लिये हमने कोई जूता स्टैंड नुमा कुछ खोजने का प्रयास किया और मैं यह जान के चकित रह गया कि इतने बड़े मन्दिर जहां हज़ारों श्रद्धालु नित्यप्रति पूजन-आराधन के लिये आते है वहां जूता स्टैंड की कोई व्यवस्था ही नहीं है. सब खुला दरबार है जूते उतारने के लिए आपको किसी भी दुकानदार से कुछ पुष्प-पत्र लेना पड़ेगा/ मैं संघर्ष के मूड में नहीं था और फ़िर मुझे नन्दीग्राम के बारे में पता भी था तो व्यवस्था में ही समझौता कर लिया/

मन्दिर की तरफ़ बढ़ने की दिशा में तमाम सारे दुकानें बनी हुई हैं जो मिल जुल कर मन्दिर का प्रवेश पथ संकरी गली जैसा बना देती हैं/ और उस संकरी गली में भारी कीचड़ और गन्दगी थी जो कि ऐसा आभास करा रही थी कि जैसे मन्दिर को बरसों से धोया नहीं गया हो/ प्रवेश के बाद मन्दिर का प्रांगण और भी गन्दा था कुछ श्रद्धालु गण मन्दिर के मण्डप में बैठे हुए मां काली का आराधन कर रहे थे/

ऐसी विराट आस्था के केन्द्र इस स्थान पर मन्दिर के दर्शनार्थियों के लिये न तो उचित रूप से पंक्तिबद्ध होने की व्यवस्था थी न ही उन्हें तीखी धूप से बचाव के लिये कोई शेड की व्यवस्था/ हमने भीड़ से हट्कर लाइन में लगे और कोशिश की अपनी आस्था श्रद्धा साबुत रख सकें, मगर भीड़ और कोल्कता की उमस भरी गर्मी में हमारी हिम्मत नहीं पड़ी कि वहां खड़े रह कर २-३ घन्टे इन्तज़ार कर सकें/

मुझे नहीं पता था कि भगवान वास्तव में इतनी कठिनाई से मिलते है/मन्दिर का प्रांगण छोटा है और उस पर भी अव्यवस्थित है. (उज्जैन में महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग है और उसमें तकरीबन १०००० लोगों के एक समय में मन्दिर में खड़े होने की क्षमता है वह भी पूरे आराम के साथ)/

जब मैं उस भीड़ में खड़ा हुआ था तो सोच रहा था कि धर्म को अफ़ीम की गोली समझने वाले विचारकों और उसके कार्यान्वयकों ने धार्मिक स्थलों की आत्यन्तिक उपेक्षा करके अपने नागरिकों को कष्ट दिया या वामपन्थ की दिशा में मील का पत्थर तय किया/ खैर वहां से दर्शन लाभ तो हो नहीं सका, हम उसके लिये गये भी नहीं थे/ गये थे प्रख्याति और प्राचीनता के दर्शन के लिये/

इसके बाद प्लान हुआ कि दक्षिणेश्वर चला जाए/दक्षिणेश्वर है कोलकाता के उत्तर दिशा में/ यह मन्दिर रानी रासमणि देवी ने बनवाया था और इसी मन्दिर के पुजारी थे स्वामी रामकृष्ण परमहंस/ मां काली के परम भक्त और साधक/ हुगली के तट पर बना है ये मन्दिर/ विशालता और सौन्दर्य में यह मन्दिर अद्भुत लगा/ मन्दिर का स्थापत्य टिपिकल बांग्ला शैली का है/ ईंटों की चिनाई वाली लदाऊ छतें और छ्त को घेरते हुये आगे की तरफ़ झुके कुछ चौरस से गुम्बद/

मैं सोचता हूं कि स्थापत्य की इतनी शैलियां और इतना वैविध्य कहां से आता होगा निर्माणकर्ताओं के दिमाग में/  हिन्दुस्तान में जिस इलाके में जाइए आपको अलग प्रकार का निर्माण कला और स्थापत्य मिलेगा, जो कि नितान्त मौलिक विशिष्टताओं के साथ अपने अलग अस्तित्व का बोध करवाता हुआ प्रतीत होगा/ मुख्य मन्दिर देवी काली का है और उसके सामने ही बहती है खूब चौड़े पाट की हुगली/ इतनी लम्बी चौड़ी नदी देखना हम मध्यप्रदेश के लोगों के लिए तो प्राकृतिक सौन्दर्य का कारक हो ही सकती है/ कुल मिला के नैसर्गिक सुषमा का दृश्य अभी तक मेरी निगाहों के सामने है/ आशंका के विपरीत हुगली इतनी गन्दी नहीं है जितनी कि गंगा कानपुर या अन्य किसी औद्योगिक शहर में है/ तट पर खड़े हुए ताड़ के गाछ और किनारे लगी हुई नावें एक ओर से दूसरे ओर अनवरत रूप से यात्रियों को पहुंचाती रहती हैं लगा कुछ ऐसा कि मानो सत्तर के दशक की हृषिकेष दा की फ़िल्म का कोई सीन है/

यहां से बेलूर मठ के लिए नाव पर जाना होता है/ बेलूर मठ है स्वामी रामकृष्ण परमहंस और उनकी लीलासंगिनी मां शारदा का स्थान/ यह स्थान स्वामी विवेकानंद से जुड़ा हुआ है/ रामकृष्ण मिशन इसका संचालन और देखभाल करता है/ और इसी की वजह से यह मठ और इसके आस-पास का वातावरण सुरम्य, स्वच्छ और सुन्दर है/ नाव से उतर कर मठ में जब पहुंचे तो हम लोग लेट हो गये थे/ मठ का समय १२ बजे दोपहर तक ही रहता है और हम साढ़े १२ बजे पहुंचे थे, तो ज्यादा कुछ घूमने का समय नहीं मिल सका/ मुझे जल्दी ही लौट के आना था क्योंकि लखनऊ आने वाली उड़ान में सिर्फ़ ३ घंटे शेष थे/ तो ये था कोलकाता प्रवास का इतिवृत्त यानि कि चिट्ठा/

2 टिप्पणियाँ

  1. अजीत कुमार मिश्रा said,

    महोदय, मुझे भी कई बार कलकत्ता जाने का सौभाग्य प्राप्त हुया और हर बार मैं कालीघाट मंदिर में भी गया परन्तु आप शायद शनिवार के दिन गये होगें इसीलिये इतनी भीड़ मिली। वैसे भक्ति और भीड़ के बीच एक अजब सी कशमकस रहती है। जैसे यदि किसी मंदिर में भीड़ न हो तो यह कहा जाता है कि इस मन्दिर की मान्यता नहीं और भीड़ हो तो कहा जाता कि इतनी भीड़ में दर्शन करने की हिम्मत नहीं।

    इसके बाद मैं आता हुँ आस्था पर । किसी वस्तु वैज्ञानिकों ने दो गुड़ बताये है। (1) भौतिक गुण जैसे प्रत्येक पदार्थ छोटे -2 कणो (Particle) से बना है। दूसरा गुण है रासायनिक मेरे विचार से किसी भी

  2. Ajit Kumar Mishra said,

    महोदय, मुझे भी कई बार कलकत्ता जाने का सौभाग्य प्राप्त हुया और हर बार मैं कालीघाट मंदिर में भी गया परन्तु आप शायद शनिवार के दिन गये होगें इसीलिये इतनी भीड़ मिली। वैसे भक्ति और भीड़ के बीच एक अजब सी कशमकस रहती है। जैसे यदि किसी मंदिर में भीड़ न हो तो यह कहा जाता है कि इस मन्दिर की मान्यता नहीं और भीड़ हो तो कहा जाता कि इतनी भीड़ में दर्शन करने की हिम्मत नहीं।

    इसके बाद मैं आता हुँ आस्था पर । किसी वस्तु वैज्ञानिकों ने दो गुड़ बताये है। (1) भौतिक गुण जैसे प्रत्येक पदार्थ छोटे -2 कणो (Particle) से बना है। दूसरा गुण है रासायनिक जिसके माध्यम से यह देखा जाता है कि रासायनिक संरचना कैसी है। मेरे विचार से किसी भी पदार्थ के दो गुण और भी होते है जिसमें पहला गुण दृष्यत्मक गुण अर्थात विभिन्न संयोजन के बाद वह कैसा दिखता है। जैसे शादी विवाह में विजली की सजावट जो कि किसी एक दिशा में चलती हुई प्रतीत होती है जबकि वास्तव में बल्ब केवल जलते बुझते है। इसके बाद जो मेरे विचार से सबसे महत्वपूर्ण गुण है वह है आस्थागत् या भावनात्मक । भावनात्मक गुण की बजह से हर पदार्थ की स्थित और सम्मान हर व्यक्ति के लिए अलग-2 होती जैसे घर अन्दर किसी बुजुर्ग की तस्वीर, कहने को तो वह केवल कागज और विभिन्न रंगो का संजोजन मात्र है परन्तु उस व्यक्ति के मन में उस तस्वीर के प्रति उतना ही सम्मान है जितना कि उस बुजुर्ग के प्रति है। इसी तरह विभिन्न मंदिरो में लगी हुई देवी देवताओं की प्रतीक मूर्तियाँ का यदि आप भौतिक गुण देखेगें तो आपको पत्थर इत्यादि ही दिखेगें परन्तु आस्थागत् तौर आपको उसमें अपने इष्ट ही दिखेगें । अब यह आप पर है कि आप भौतिक दृष्टि से देखते हैं या आध्यत्मिक दृष्टि से।

    अंत मे मैं यही कहना चाहता हूँ कि यह मेरे बिल्कुल व्यक्तिगत् विचार है तथा इनका कोई धार्मिक या ऐतिहासिक साक्ष्य नहीं है। तथा यदि सहमति ने तो इसको किसी विवाद का विषय न बनाया जाये। साथ यदि किसी की भावनायें आहत हूई हो तो क्षमा चाहता हूँ।

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: